आपका नजरिया ही आपकी सफलता की चाबी है

हमारा नजरिया ही हमारी काबिलियत को प्रदर्शित करता है। किसी भी कार्य को करने के लिए सबसे पहले जिस चीज की आवश्यकता है वह है हमारा नजरिया। हमारा नजरिया हमारी अंदरूनी शक्शियत है। हमारी अंतरात्मा की आवाज है। जो हमें हर कार्य को करने की ताकत देती है। जब हम […]

जानिए, अध्यात्म में रंगों की भूमिका और उनका महत्व!

भौतिक और भौगोलिक क्षेत्र में रंग सबसे सुंदर पहलुओं में से एक हैं। हम चारों तरफ रंगों से घिरे हुए हैं, लेकिन कितनी बार हम असंख्य रंगों में कई बारीकियों को नहीं देख पाते हैं । आध्यात्मिक, रूप से रंग दो तरह से जानकारी प्रदान कर सकते है- आभा (प्रभामण्डल […]

विश्व एक रंगमंच है और हम सब इसके किरदार…Prayagraj News

प्रयागराज, [अमरदीप भट्ट]। आज यानी शुक्रवार को विश्व रंगमंच दिवस है। यह तारीख हर साल विश्लेषण करने को विवश करती है कि मंच पर अभिनय कला की समृद्धशाली परंपरा बनाए रखने में हम कितने सफल हुए? प्रयागराज का रंगकर्म भारत ही नहीं, विश्व भर में विख्यात रहा है। हालांकि धीरे-धीरे […]

प्रेरणा पर निबंध

प्रेरणा एक ऐसा ऐसी वस्तु है. जो व्यक्ति के जन्म से लेकर व्यक्ति के मरने तक उसे मिलती है. प्रेरणा सकरात्मक वाक्य है. प्रेरणा हर व्यक्ति से मिलती है. तथा हर समय मिलती है. हम जरुरत पड़ने पर दूसरो से प्रेरणा ले भी सकते है. तथा उसे जरुरत होने पर […]

बचपन की सखी, जो सिखा गई ज़िंदगी जीने का जज्‍बा

जी हाँ दोस्‍तों, फिर हाजिर हूँ एक नए ब्‍लॉग के साथ, जिसमें बचपन की ऐसी याद का जिक्र कर रहीं हूँ, “जिसने मेरे जीने का अंदाज़ ही बदल दिया” । बचपन के फुहारों की छींटों के साथ हम अपनी पूरी जिंदगी बिता देते हैं, दोस्‍तों, पर हॉं तनहाई में यही […]

भारतीय वैदिक गणित और अध्यात्म

क्या भारत में गणित का संबंध जीवन, मृत्यु और निर्वाण के दर्शन से रहा है? बीबीसी के विज्ञान कार्यक्रम के लिए इसी विषय की पड़ताल कर रहे हैं गणित से जुड़े विषयों पर लिखने वाले लेखक एलेक्स बेलौस. भारत के गणितज्ञों को संख्याओं की शुरुआत करने का श्रेय जाता है. […]

दुनिया एक रंगमंच है : जुमले के निहितार्थ स्तानीस्लावस्की के बहाने से

रंगमंच से अपेक्षा है कि यहां स्वतंत्र चिंतन होता रहना चाहिए । स्वतंत्र चिंतन से एक आशय यह ही है कि रंगमंच पर वैचारिक मंथन के पश्चात ही चीजों को लोगों तक ले जाएँ। आशय यह भी है प्रचलित जुमलों नारों को पहले समझें और उनके निहितार्थ लोगों के सामने […]

जीवन की प्रेरणा हैं श्री कृष्ण

वस्तुत: श्रीकृष्ण के जीवन के तीन रूप हैं- इनमें ब्रज लीला, वृंदावन लीला और द्वारिका लीला विशेष हैं। ब्रज लीला में उनकी बाल लीलाएं हैं, वृंदावन लीला में गोपी एवं राधा के साथ प्रेममयी माधुर्य लीला है और द्वारिका लीला में परब्रह्म संबंधी ईश्वर लीला है। इन तीनों ही लीलाओं […]

जिंदगी में बदलाव कैसे लाएं ? – How to bring change in life?

परिस्तितियों के कारण अचानक ही सही पर  हमारे जीवन में अनेक बदलाव आते हैं इनमे से कुछ बदलाव बिना बताये आते हैं और कुछ समय के साथ साथ अपने आप ही आने लगते हैं । इनमें से कुछ बदलावों के लिए हम तैयार रहते हैं लेकिन कभी-कभी कुछ ऐसे बदलाव […]

अध्यात्म में शून्य का महत्व

अंक विज्ञान तथा अंक विद्या ज्योतिष शास्त्र के अभिन्न अंग हैं जिनमें किसी के भी जीवन तथा चरित्र पर उनके द्वारा पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन तथा विश्लेषण किया जाता है। यदि तर्क की दृष्टि से देखा जाए तो यह सर्वथा उचित है क्योंकि यह तो जन्म से ही शुरू […]

नहीं रहे रंगकर्मी सतीश मेहता, रंगमंच पर प्रयोग की बेजोड़ गति थमी

शहर के वरिष्ठ रंगकर्मी, एमवीएम में फिजिक्स के प्रोफेसर और ‘प्रयोग थिएटर समूह’ के संस्थापक रंगकर्मी प्रो.सतीश मेहता का लंबी बीमारी से भोपाल में मंगलवार सुबह निधन हो गया। वे काफी समय से रंगमंच पर सक्रिय नहीं थे। निर्देशक प्रो. सतीश ने एक ताजा हवा के झोंके की तरह इंदौर […]

चरित्र के आधार पर व्यक्ति की पहचान होती

चरित्र एक ऐसी मशाल के समान होता है जिसका प्रकाश दिव्य और पावन होता है। चरित्र बल के आलोक से अनेक लोगों को प्रेरणा मिलती है, एक नई राह मिलती है। चरित्र एक ऐसा आकर्षण केंद्र होता है, जिसकी ओर सभी अनायास खिंचे चले आते हैं। चरित्र से व्यक्तित्व आकार […]